बुधवार, 6 अगस्त 2014

माहिया : डा0 आरिफ़ हसन ख़ान [ क़िस्त 06]

    26
तनहा ही रहना है
जीवन भर मुझ को
अब दर्द ये सहना है
---------
27
दुशवार हुआ जीना
इश्क़ न हो रुसवा
आसान नहीं मरना
------
28
मेरा क्या जीना है
तुझ को ख़ुश देखूँ
बस एक तमन्ना है
-------
29
तू ख़ूब फले-फूले
दर्द उठाऊँ मैं
तू ख़ुशियों में झूले
--------
30
आँसू क्यों बहते हैं
हम तो तेरा हर ग़म
चुप रह कर सहते हैं
-------


प्रस्तुतकर्ता

-आनन्द.पाठक
09413395592

कोई टिप्पणी नहीं: