मंगलवार, 6 मई 2014

माहिया : डा0 आरिफ़ हसन ख़ान [क़िस्त-03]

तू माँग के देख ज़रा
तेरी ख़ुशी के लिए
मैं जान भी दे दूँगा
-------
12
ये तो नहीं सोचा था
खो देंगे तुझ को
जब तुझ को चाहा था
------
13
फेरी जो नज़र तू ने
आँख झपकते ही
सब मंज़र थे सूने
--------
14
आँधी हूँ ,बगूला हूँ
तुझ से बिछड़ कर मैं
ख़ुद आप को भूला हूँ
-------
15
शायद कोई पत्थर हूँ
ज़िन्दा जो अब तक
मैं तुझ से बिछड़ कर हूँ

कोई टिप्पणी नहीं: