मंगलवार, 29 जनवरी 2013

उर्दू बह्र पर एक बातचीत -6 बह्र-ए वाफ़िर

उर्दू बह्र पर एक बातचीत -6

बह्र-ए वाफ़िर [1 2 1 1 2 ]



[Disclaimer clause : -वही -[भाग -1 का]



[ अब तक ’बह्र-ए-मुतक़ारिब’, बह्र-ए-मुत्दारिक, बह्र-ए-हज़ज , बह्र-ए-रमल और बह्र-ए-रजज़ पर बातचीत कर चुका हूं और बात स्पष्ट करने के लिए उन की कुछ मिसालें भी पेश कर चुका हूँ । अब बात आगे बढ़ाते हुए ......]



उर्दू शायरी में एक प्रचलित बह्र है -जिसका नाम है " बह्र-ए-वाफ़िर" जिसका मूल रुक्न है ..’मुफ़ा इल तुन्" [ 1 2 1 1 2 ].यह रुक्न भी सालिम रुक्न की हैसियत रखता है यह भी एक सुबाई (7-हर्फ़ी) रुक्न है । दर हक़ीक़त यह बह्र अरबी में काफी प्रचलित है मगर उर्दू में इतनी लोकप्रिय बह्र नहीं बन सकी जितनी कि अन्य बह्रें बनी। ’वाफ़िर’ का लग़वी (शब्द कोशीय अर्थ) मानी है प्रचुरता ,अधिकता और इसी आधार पर डा0 कुँअर बेचैन जी ने इस बह्र का नाम ’प्रचुरिका छन्द’ रखा है

डा0 साहब का उर्दू के बह्रों को हिन्दी नाम देना और हिन्दी के दशाक्षरी "य मा ता रा ज भा न स ल गा" के सूत्र से इन बह्रों को समझाना आप का मौलिक प्रयास है।

आप ने इस बह्र की व्याख्या त्रिकल अक्षर(वतद ) और एकल अक्षर (1-हर्फ़ी) से की है जैसे 1-वतद(3-हर्फ़ी लफ़्ज़) + 1 एकल (1-हर्फ़ी) +1 वतद(3-हर्फ़ी लफ़्ज़) =7 हर्फ़ी रुक्न से की है

उदाहरण के लिए उन्होने एक शे’र नीचे दिया है (उनकी किताब : ग़ज़ल का व्याकरण से साभार)[नोट:- डा0 साहब ने यह स्पष्ट कर दिया है कि यह शे’र सिर्फ़ समझाने की गरज़ से कहा गया है इस में आप शे’रियत न देखें]

दुआ न मिले ,दवा न मिले

रहो न ,जहां हवा न मिले

यह बह्र-ए-वाफ़िर मुरब्ब: सालिम का एक उदाहरण है -कारण कि रुक्न [1 2 1 1 2] शे’र में 4 बार [यानी मिसरा में 2-बार] आया है

अब इसकी तक़्तीअ कर के भी देख लेते हैं

1 2 1 1 2 / 1 2 1 1 2

दुआ न मिले /,दवा न मिले

रहो न ,जहां / हवा न मिले

हालांकि डा0 साहब ने इस की तक़्तीअ यूँ की है



दुआ+न+मिले , दवा+न+मिले

1 2 +1 +1 2 / 1 2+1 2

त्रिकल+एकल+त्रिकल / त्रिकल+एकल+त्रिकल

3-हर्फ़ी+ 1 हर्फ़ + 3-हर्फ़ी /3-हर्फ़ी+ 1 हर्फ़ + 3-हर्फ़ी

जो कि सही प्रतीत नहीं होता है

क्योंकि उर्दू की क्लासिकल अरूज़ की किताब में इसे या तो ’वतद’[3-हर्फ़ी] लफ़्ज़ और ’फ़ासिला’[4-हर्फ़ी] लफ़्ज़ = 7 हर्फ़ी रुक्न से समझाया गया है या तो फिर 1-वतद[3] +1-सबब[2] +1 सबब[2] = 7 हर्फ़ी से।

इस लिए ’बेचैन’ जी की तज़्वीज़ उचित प्रतीत नहीं हो रही है कारण कि 1-हर्फ़ से कोई रुक्न नहीं बनता ।यहाँ तक कि अगर सालिम रुक्न पे ज़िहाफ़ भी लगाते है तो न्यूनतम (सबसे छोटा से छोटा जुज़ (टुकड़ा) भी 2 हर्फ़ी ही रहता है। 1-हर्फ़ी नहीं होता।

एक बात और

’बेचैन’ जी के तज़्वीज़ में ’इ ल’ को ’इ’ मय हरकत अलग कर [1-हर्फ़] ’लाम’ को ’तुन्’ के साथ जोड़ कर ’लतुन्’[3-हर्फ़ी वतद्] बना दिया है। रुक्न् के वज़न में तो कोई फ़र्क नहीं पड़ा मगर तर्कीब में फ़र्क पड़ गया। कारण कि ’इल’ सबब है और ’तुन’ भी सबब है ्जब कि खाली ’इ’(ऎन) से कोई न रुक्न है और न ही कोई रुक्न का जुज़ है।

उर्दू के शो’अरा (शायरों ने] इस बह्र में ज़्यादा ग़ज़ल या शे’र नहीं कहे है शायद एक कारण यह भी हो कि बीच में 3 लगातार हरकत हर्फ़ [अलिफ़ एन और लाम ] आने से रवानी में ख़लल पड़ता है हालांकि उर्दू में तस्कीन-ए-औसत के लिहाज से बीच वाले हर्फ़ ’एन’ को साकिन कर के ही पढ़ते हैं

यह बह्र ’वतद’[3-हर्फ़ी कलमा] और ’फ़ासिला [4 हर्फ़ी कलमा] से बना है मगर कुछ अरूज़ी इसे वतद और सबब से भी बना कर बताते हैं। चूँकि हम ने अभी तक ’फ़ासिला’ की इस्तिलाह (परिभाषा) नहीं बयान की है तो अभी करेंगे भी नहीं । सिर्फ़ ’वतद’ और ’सबब’ के इश्तिराक (योग) से ही इस की भी व्याख्या करेंगे । आखिर ’फ़ासिला’ [4-हर्फ़ी कलमा] भी = ’सबब[2] + सबब[2] से भी दिखाया जा सकता है



पिछले अक़्सात (किस्तों में ) में मैने कहा था कि सबब के 2- भेद होते है । चलिए एक बार फिर दुहरा देते हैं

सबब-ए-ख़फ़ीफ़

सबब-ए-सक़ील

सबब-ए-ख़फ़ीफ़ = वो 2-हर्फ़ी कलमा जिसमे पहले हर्फ़ पर ’हरकत’ हो और दूसरा हर्फ़ ’साकिन’ हो

हिन्दी में ’साकिन’ का कन्स्पेट तो नही हैं फ़िलवक़्त ’साकिन’ हर्फ़ समझने के लिए आप संस्कृत का ’हलन्त’ का तसव्वुर करे

जैसे ’तुन्’ ’लुन्’ मुस्’ तफ़्’...यह् सब ’सबब-ए-ख़फ़ीफ़’ है जिसका वज़न [2] होता है जिसमें पहले हर्फ़ तु’..’ल’...’मु’ ...त’पर हरकत है जब कि ’न्’ ’स्’ फ़्’ हर्फ़ साकिन है



सबब-ए-सक़ील = वो 2-हर्फ़ी कलमा जिसमे दोनो हर्फ़ पर हरकत हो इसका भी वज़न 2 होता है मगर इसे दिखाते है [1 1] की शकल में , अगर आप दोनो हर्फ़ पर बराबर वज़न से बोल रहे होते है तब



चलिए अब मुफ़ा इल तुन’ रुक्न कैसे बनती है, देखते हैं

मुफ़ा इल तुन = वतद + सबब-ए-सक़ील + सबब-ए-ख़फ़ीफ़

[1 2 1 1 2 ] = [1 2 ] + [ 1 1 ] + [ 2 ]

= 1 2 1 1 2

एक बात पर आप ग़ौर फ़र्माये.....

अगर ’सबब-ए-सक़ील2-हर्फ़ी कलमा[हरकत+हरकत] वज़न [1 1 ] की जगह ’सबब-ए-खफ़ीफ़’-2-हर्फ़ी कलमा[हरकत + साकिन] वज़न [2] होता तो क्या होता ??

तो रुक्न का वज़न [1 2 2 2] हो जाता जो बह्र-ए-हज़ज के मूल रुक्न का वज़न है जो उर्दू शायरी में काफी लोकप्रिय व मधुर आहंग्खेज़ बह्र है जिसमें काफी प्रवाह [रवानी] है।

अब आप यह कहेंगे कि इस बात का यहां क्या तुक है ? क्या ज़रूरत है?

ज़रूरत है। ज़रूरत है यह बताने के लिए कि’ ’बह्र-ए-वाफ़िर’ जो अरबी में तो एक मानूस बह्र है वो उर्दू में लोकप्रिय बहर क्यों न बन सकी ? क्यों उर्दू के शायरों नें इस बहर में काफी शे’र या ग़ज़ल नहीं कहे? हमें लगता है कि [1 2 1 1 2 ] के सामने [ 1 2 2 2 ] -बह्र-ए-हज़ज थी जो ज़्यादा लोकप्रिय आहंगखेज़ मधुर लयात्मक थी इस में शे’र कहना ज़्यादा सरल और दिलकश था ।शायद यह भी एक सबब हो।

खैर

बह्र-ए-वाफ़िर की भी परिभाषा भी वही है जो अन्य बह्रों के हैं

यानी

बह्र-ए-वाफ़िर मुरब्ब: सालिम : यानी यह रुक्न ’मुफ़ा इल तुन’ [12112] किसी शे’र में 4-बार [यानी मिसरा में 2 बार ] आये तो वो बह्र ’बह्र-ए-वाफ़िर मुरब्ब: सालिम’ कहलायेगी

एक मिसाल लेते हैं [आहंग और अरूज़ से साभार]



कभी तो मिलायें आप नज़र

कभी सर-ए-रहगुज़र ही मिले

अब इसकी तक़्तीअ भी कर के देख लेते हैं

1 2 1 1 2 /1 2 1 1 2

कभी तो मिला/यें आप नज़र

कभी सर-ए-रह/गुज़र ही मिले

[यहां भी वही बात ’तो’.. ये’ ..ही ..हर्फ़-ए-इल्लत के ज़ेर-ए-असर 1-की वज़न पे ही अदा होंगे]

चूँकि [1 2 1 1 2] रुक्न शे’र मे 4-बार [यानी मिसरा में 2-बार ]आया है अत: इसे बह्र-ए-वाफ़िर मुरब्ब: सालिम कहेंगे

बह्र-ए-्वाफ़िर मुसद्दस सालिम :यानी यह रुक्न ’मुफ़ा इल तुन’ अगर किसी शे’र में 6 बार [यानी मिसरा में 3 बार] आये तो वह बह्र-ए-वाफ़िर मुसद्दस सालिम कहलाएगी

एक मिसाल लेते हैं [आहंग और अरूज़ से साभार]

बहुत पी चुका हूं ज़हर-ए-हयात पीर-ए-मुगां

ये मैकदा है शराब पिला ,शराब मुझे

अब इसकी तक़्तीअ भी कर लेते हैं

1 2 1 1 2 / 1 2 1 1 2/1 2 1 1 2

बहुत पी चुका/ हूं ज़हर-ए-हया/त पीर-ए-मुगां

ये मैकदा है /शराब पिला /,शराब मुझे

एक बात पे ध्यान दें इज़ाफ़त हूं’ज़हर-ए-हया’ [1 2 1 1 2] या पीर-ए-मुगां यानी इज़ाफ़त -ए- वज़न में कोई रोल नहीं कर रहा है यानी बह्र की यही मांग है

बह्र-ए-वाफ़िर मुसम्मन सालिम: यानी यह रुक्न ’मुफ़ा इल तुन’ अगर किसी शे’र में 8 बार [यानी मिसरा में 4 बार] आये तो बो बह्र ’बह्र-ए-मुसम्मन सालिम’ कहलायेगी

एक मिसाल लेते हैं [आहंग और अरूज़ से साभार]



अगर ये कहा है तुम ने मेरे रकीब से क़त्ल कर दे मुझे

क़सम है मुझे अगर न उसे पेश कर दूंगा तुहफ़ा में सर

अब इसकी तक़्तीअ भी देख लेते हैं

1 2 1 1 2 / 1 2 1 1 2 / 1 2 1 1 2/ 1 2 1 1 2

अगर ये कहा /है तुम ने मेरे/ रकीब से क़त्/ल कर दे मुझे

क़सम है मुझे /अगर न उसे /मैं पेश कर दूं/गा तुहफ़ा में सर

यहाँ भी वही बात ....ये....है....ने...मे....दे...सब बह्र की मांग की मुताबिक़ 1-की वज़न पे पढ़े जायेंगे

वैसे इस बह्र में 16-रुक्नी बह्र नहीं देखी है..मुश्किल तो है मगर ना-मुमकिन नहीं

इस बह्र के मुज़ाहिफ़ शक्ल की बात बाद में करेंगे जब रुक्न पे ’ज़िहाफ़’ की बातचीत करेंगे

अहबाब-ए-महफ़िल (मंच के दोस्तों से) गुज़ारिश है कि इस बह्र की 16 रुक्नी सालिम शकल अगर आप की नज़र से कोई ग़ज़ल गुज़रती है तो बराए मेहरबानी इस मंच पर लगायें ताकि दीगर कारीं इस से मुस्तफ़ीद हो सकें

आप सभी कारीं (पाठकों) से दस्तबस्ता गुज़ारिश है कि अपनी रहनुमाई से हमें आगाह करें



-आनन्द.पाठक

09413395592

रविवार, 20 जनवरी 2013

उर्दू बह्र पर एक बातचीत-5 [बह्र-ए-रजज़]

उर्दू बह्र पर एक बातचीत -5

बह्र-ए-रजज़ [ 2 2 1 2 ]



[Disclaimer clause : -वही -[भाग -1 का]



[ अब तक ’बह्र-ए-मुतक़ारिब’, बह्र-ए-मुत्दारिक, बह्र-ए-हज़ज और बह्र-ए-रमल पर बातचीत कर चुका हूं और बात स्पष्ट करने के लिए उन की कुछ मिसालें भी पेश कर चुका हूँ । जो पाठकगण इन से वंचित रह गये हैं वो मेरे ब्लाग www.urdu-se-hindi.blogspot.com पर भी इन्हें पढ़ सकते हैं ।संक्षेप में एक बार दुहरा रहा हूँ कि बात ज़ेहननशीन हो जाय ।



बह्र मूल रुक्न वज़न तरकीब

मुत्क़ारिब फ़ऊ लुन 1 2 2 वतद + सबब =1 2 + 2 = 1 2 2 =5-हर्फ़ी

मुत्दारिक फ़ा इलुन 2 1 2 सबब + वतद = 2 + 12 = 2 1 2 = 5-हर्फ़ी



हज़ज मफ़ा ई लुन 1 2 2 2 वतद+सबब+सबब = 1 2+ 2+ 2 = 1 2 2 2 =7-हर्फ़ी

रमल फ़ा इला तुन 2 1 2 2 सबब+वतद +सबब = 2 +1 2+ 2 = 2 1 2 2 = 7-हर्फ़ी

रजज़ मुस तफ़ इलुन 2 2 1 2 सबब+ सबब+ वतद = 2+2+ 1 2 = 2 2 1 2 = 7-हर्फ़ी



आप ग़ौर फ़र्मायेंगे कि मूल रुक्न सबब और वतद के combination से बनते जा रहें हैं बस मुख़्तलिफ़ बहर में सबब (2-हर्फ़ी) वज़न के लिए कहीं ’लुन’ तो कहीं ’तुन’ तो कहीं ’मुस’ तो कहीं ’तफ़’ का इस्तेमाल हो रहा हैं ।मालूम नहीं क्यों?



उसी प्रकार वतद के लिए कहीं ’फ़ऊ’ तो कहीं तो कहीं ’मफ़ा’ ’इलुन’ तो कहीं इला’ का इस्तेमाल हो रहा है। मालूम नहीं क्यों?



शायद अरूज़ियों ने आहंग के लिए ऐसा ही तसव्वुर किया हो। खैर....



एक बात और..

हज़ज , रमल और रजज़ में ’वतद’ की location देखते चलिए और मात्रा 1-का वज़न कैसे अपनी जगह बदल रहा है इस बिना पर आप कह सकते हैं कि ’2 2 2 1 ’ भी कोई बह्र होगी । जी हां। आप बिल्कुल सही हैं इस वज़न की भी एक मूल रुक्न है और बह्र भी है .नाम बाद में बताऊंगा।...



अब मूल बात पर आते हैं -बह्र-ए-रजज़]



------ जी हाँ , उर्दू शायरी में एक बह्र है जिसका नाम है बह्र-ए-रजज़। जिसका बुनियादी रुक्न है -’मुस तफ़ इलुन’ [ 2 2 1 2 ]

इस का निर्माण कैसे होता है ऊपर बता चुका हूं। यह भी एक सबाई [7- हर्फ़ी] रुक्न है

डा0 कुँअर बेचैन जी ने इस बहर का हिन्दी नाम ..."वंश-गौरव’ छन्द दिया है । उन्हीं के शब्दों में -" ...’रजज़’ शब्द अरबी का है। इस शब्द का अर्थ है युद्ध क्षेत्र में अपने कुल की शूरता और श्रेष्ठता का वर्णन। इसी अर्थ के आधार पर हमने इस का नाम ’वंश-गौरव’ छन्द रखा है ।"

हमारे यहां शायद ’आल्हा’ में भी ऐसा ही कुछ वर्णन होता है

यह बह्र भी सालिम बह्र की हैसियत रखता है।

बह्र-ए-रजज़ की परिभाषा भी वही है जो अन्य सालिम बहूर [ब0ब0 बह्र] की है यानी

[1] बह्र--ए-रजज़ मुरब्ब: सालिम

यह रुक्न ’मुस तफ़ इलुन ’[ 2 2 1 2] अगर किसी शे’र में 4-बार (यानी मिसरा में 2-बार] आए तो शे’र की बह्र ’बह्र-ए-मुरब्ब: सालिम कहलायेगी

2 2 1 2 / 2 2 1 2 यानी मुस तफ़ इलुन /मुस तफ़ इलुन

2 2 1 2/ 2 2 1 2 मुस तफ़ इलुन /मुस तफ़ इलुन

[2] बह्र-ए-रजज़ मुसद्दस सालिम

अगर किसी शे’र में यह रुक्न [2 2 1 2 ] 6-बार [यानी मिसरा में 3-बार] आये तो बह्र ’ बह्र-ए-रजज़ मुसद्दस सालिम’ कहलायेगी



2 2 1 2/ 2 2 1 2 / 2 2 1 2 यानी मुस तफ़ इलुन/मुस तफ़ इलुन/मुस तफ़ इलुन

2 2 2 2 / 2 2 1 2 / 2 2 1 2 मुस तफ़ इलुन/मुस तफ़ इलुन/मुस तफ़ इलुन



[3] बह्र-ए-रजज़ मुसम्मन सालिम



अगर किसी शे’र में यह रुक्न [ 2 2 1 2 ] 8-बार [यानी मिसरा में 4-बार] आए तो यह बह्र-ए-मुसम्मन सालिम’ कहलायेगी



2 2 1 2 /2 2 1 2 /2 2 1 2 /2 2 1 2 यानी मुस तफ़ इलुन/मुस तफ़ इलुन/मुस तफ़ इलुन/मुस तफ़ इलुन

2 2 1 2 / 2 2 1 2/ 2 2 1 2/ 2 2 1 2 मुस तफ़ इलुन/ मुस तफ़ इलुन /मुस तफ़ इलुन/मुस तफ़ इलुन



यही बात 16-रुक्नी बह्र में होगी यानी किसी शे’र में यह रुक्न 16 बार [यानी मिसरा में 8-बार ] आये तो उसका नाम बह्र-ए-रज़ज मुइज़ाफ़ी मुसम्मन सालिम कहलायेगी [ इज़ाफ़ी मानी 2- गुना और मुसम्मन मानी 8]



यूं तो यह रुक्न यदि कोई शायर किसी शे’र में 12 बार या 14 बार प्रयोग करना चाहे तो मनाही तो नहीं है मगर अमूमन शायर यही मुसद्दस और मुसम्मन शक्ल ही प्रयोग करते हैं। बात सिर्फ़ रुक्न और बह्र की ही नहीं होती बल्कि शे’र की शे’रियत और गज़लियत की भी होती है शे’र किसी बह्र में हो बस और दिलकश हो दिल पज़ीर हो।



गो, बह्र के मुसम्मन सालिम या मुसद्दस सालिम के ज़्यादा शे’र नहीं मिला ज़्यादातर शायरों नें इसकी मुज़ाहिफ़ शक्ल में ही शे’र कहें हैं। वात स्पष्ट कर ने कि लिए इस बह्र ् के सालिम शक्ल के कुछ शे,र लेते हैं और फिर तक़्तीअ कर के देखते हैं



मैं कह रहा हूँ यह कि अब ,तू क्या करे, मैं क्या करूं

तू भी मुझे देखा करे ,मैं भी तुझे देखा करूँ

-डा0 कुँअर बेचैन [ग़ज़ल के व्याकरण से साभार]



[डा0 साहब ने यह बात पहले ही साफ़ कर दी है कि यह ख़ुदसाख़्ता शे’र सिर्फ़ बह्र को समझाने के किए कहा है ,इसमें ’शे’रिअत न देखी जाए]



अब इसकी तक़्तीअ भी देख लेते हैं

2 2 1 2 / 2 2 1 2 / 2 2 1 2 / 2 2 1 2

मैं कह रहा /हूँ यह कि अब /,तू क्या करे, /मैं क्या करूं

2 2 1 2 / 2 2 1 2/ 2 2 1 2 / 2 2 1 2

तू भी मुझे /देखा करे /,मैं भी तुझे /देखा करूँ



चूंकि 2 2 1 2 [मुस् तफ़् इलुन्] शे’र में 8 बार (यानी मिसरा में 4-बार] आया है अत: यह ’बह्र-ए-रजज़ मुसम्मन सालिम" की मिसाल हुई



एक मिसाल और लेते हैं



हम को भी क्या क्या नाज़ था टूटे हुए दिल पे मगर

उसने तो जिस पत्थर को ठुकराया वो इक दिल हो गया

[जनाब कमाल अहमद सिद्दिक़ी की किताब ’ आहंग और अरूज़ ’ से साभार]

अब इसके तक़्तीअ भी कर लेते हैं

2 2 1 2 / 2 2 1 2 / 2 2 1 2/ 2 2 1 2

हम को भी क्या/ क्या नाज़ था /टूटे हुए/ दिल पे मगर

2 2 1 2 / 2 2 1 2 / 2 2 1 2 / 2 2 1 2

उसने तो जिस/ पत्थर को ठुक/राया वो इक /दिल हो गया



[यहां पर भी वही बात ’ भी’ ’तो’ ’को’ ’वो’ कि देखने में तो सबब [2-हर्फ़ी] लफ़्ज़ लगता है मगर ’हर्फ़-ए-इल्लत’ के ज़ेर-ए-असर इसको गिरा कर [यानी दबा कर ] बह्र की माँग के मुताबिक 1-की वज़न पर पढ़ेगे]

इस बह्र के मुज़ाहिफ़ शक्ल की बात बाद में करेंगे जब रुक्न पे ’ज़िहाफ़’ की बातचीत करेंगे

अहबाब-ए-महफ़िल (मंच के दोस्तों से) गुज़ारिश है कि इस बह्र की सालिम शकल [ मुरब्ब: ,मुसद्दस, मुसम्मन } में अगर आप की नज़र से कोई ग़ज़ल गुज़रती है तो बराए मेहरबानी इस मंच पर लगायें ताकि दीगर कारीं इस से मुस्तफ़ीद हो सकें

आप सभी कारीं (पाठकों) से दस्तबस्ता गुज़ारिश है कि अपनी रहनुमाई से हमें आगाह करें



-आनन्द.पाठक

09413395592

शनिवार, 12 जनवरी 2013

उर्दू बह्र पर एक बातचीत - किस्त - 4 [ बह्र-ए-रमल)

उर्दू बह्र पर एक बातचीत (क़िस्त -4)

बह्र-ए-रमल [2 1 2 2 ]

[Disclaimer clause ;वही जो क़िस्त -1 में है]



[पिछली बातचीत में बह्र-ए-हज़ज [1 2 2 2 ] का ज़िक्र कर चुका हूं ।डा0 कुँअर बेचैन ने जिसका हिन्दी नाम "कोकिल छन्द रखा है]



अब आगे बढ़ते हैं .....]



उर्दू में एक और मान्य प्रचलित बह्र है -बह्र-ए-रमल - जिसका बुनियादी रुक्न है ’फ़ा इ ला तुन् ’जिसका वज़न है [2 1 2 2 ] और यह भी एक सालिम रुक्न है।यह भी बह्र-ए-ह्ज़ज की मूल रुक्न ’मफ़ा ई लुन ’ की तरह एक सबाई (7-हर्फ़ी) रुक्न है

डा0 कुँअर बेचैन ने इस बह्र का नाम ’बिन्दु अंकन छन्द’ रखा है। उन्हीं के शब्दों में -"’रमल शब्द अरबी भाषा का है।इस शब्द का अर्थ उस विद्या से है जिससे भविष्य में होने वाली घटनायें बता दी जाती हैं ।इस विद्या का मूल आधार नुक़्ते (ब0ब0 निक़ात) [बिंदियां] हैं ,इसी अर्थ के आधार पर हम इसे ’बिन्दु अंकन छन्द’ नाम दे रहे हैं।इस बह्र के विषय प्रेरणात्मक भी हो सकते हैं और उपदेशात्मक भी।"



ख़ैर ,नाम में क्या रखा है । वैसे मेरे ख़याल से ’रमल’ नाम भी कोई बुरा नहीं है

वैसे तो यह बह्र सालिम रुक्न की हैसियत रखता है मगर न जाने क्यों उर्दू में इस बह्र की सालिम शकल (मुसद्दस सालिम या मुसम्मन सालिम) में बहुत कम अश’आर कहे गयें है .प्राय: इस बह्र की मुज़ाहिफ़ शक्ल (ख़ास तौर पर मह्ज़ूफ़ ज़िहाफ़ की शकल) में ज़्यादा अश’आर कहे गये जो ज़्यादा आहंगख़ेज़ (लयपूर्ण) हैं ।ख़ैर.....



यह रुक्न भी ’सबब’(2 हर्फ़ी कलमा) और ’वतद (3 हर्फ़ी कलमा) के योग [combination ] से बना है वैसे ही जैसे बह्र-ए-हज़ज का रुक्न [मफ़ा ई लुन] बना था । देखिए कैसे



फ़ा इला तुन् =सबब +वतद + सबब

= 2 + ( 1 2) + 2

=2 1 2 2

बात वही .

उर्दू में सबब के 2 भेद और वतद के 3 भेद होते है

उर्दू शायरी में इस का ख़ास महत्व है कारण कि उनके यहां हर्फ़ हरक़त और साकिन से वज़न derive करते है जब कि हिन्दी में साकिन का Concept नहीं है [संस्कृत की बात और है]

इसी लिए मैने पहले ही कह दिया है कि यह मज़्मून हिन्दी दोस्तों के नुक़्त-ए-नज़र से लिख रहा हूँ जिन्हे उर्दू ग़ज़ल कहने और पढ़ने समझने का शौक़ है और वो कुछ कहना चाह्ते है यह मज़ामीन शायद उर्दू अदीब या अरूज़ी के नुक़्ते नज़र ज़्यादा कामयाब या मुस्तफ़ीद न हों।

बह्र-ए-रमल की भी परिभाषा भी वही है जो और सालिम बह्र के साथ है जैसे

[1] अगर यह रुक्न किसी शे’र में 4-बार (यानी मिसरा में 2-बार ] आता है तो बह्र-ए-रमल मुरब्ब: सालिम कहते हैं



2 1 2 2 / 2 1 2 2 यानी फ़ा इला तुन् / फ़ा इला तुन्

2 1 2 2 / 2 1 2 1 फ़ा इला तुन् / फ़ा इला तुन्



[2] अगर यह रुक्न किसी शे’र में 6 बार (यानी मिसरा में 3-बार) आये तो बह्र-ए-रमल मुसद्दस सालिम कहलायेगी



2122 /2122 /2122 यानी फ़ा इला तुन् / फ़ा इला तुन् / फ़ा इला तुन्

2122 /2122 /2122 फ़ा इला तुन् / फ़ा इला तुन् / फ़ा इला तुन्



[3] अगर यह रुक्न किसी शे’र में 8 बार (यानी मिसरा में 4-बार) आता है तो यह बह्र "बह्र-ए-मुसम्मन सालिम’ कहलाती है



2122 /2122 /2122/ 2122 यानी फ़ा इला तुन् / फ़ा इला तुन्/ फ़ा इला तुन् / फ़ा इला तुन्

2122 /2122 /2122 / 2122 फ़ा इला तुन् / फ़ा इला तुन् /फ़ा इला तुन् /फ़ा इला तुन्



[4] और अगर यह रुक्न किसी शे’र में 16 बार (यानी मिसरा मेम 8-बार ) आता है तो यह 16-रुक्नी बहर "बह्र-ए- मुइज़ाफ़ी मुसम्मन सालिम" कहलायेगी

2122 /2122/2122/2122/2122/2122/2122/2122

2122/ 2122/2122/2122/2122/2122/2122/2122



जैसा कि ऊपर कह चुका हूँ अगर्चे (यद्दपि) यह बहर सालिम रुक्न की हैसियत रखता है मगर इस की सालिम शक्ल में बहुत कम अश’आर कहे गये है-पता नही क्यों? इसकी ’मुज़ाहिफ़’ शकल ही ज़्यादा मुस्तमिल (इस्तेमाल में) है

फिर भी कुछ इधर उधर से अरुज़ की किताबों से ,इन्टर्नेट से खोज कर क़ारीं (पाठकों) की सहूलियत को मद्द-ए-नज़र और बात वाज़ेह करने के लिए लगा रहा हूँ । अहबाब(दोस्तों) से दस्तबस्ता (करबद्ध) गुज़ारिश है कि इस बह्र के सालिम शक्ल की कोई और मिसाल मिले तो राकिम-उल-हरूफ़ (इस लेखक को) ज़रूर आगाह कीजिएगा”

जनाब ’सरवर ’ साहब ने ’क़तील सिफ़ाई साहब के शे’र की बह्र-ए-रमल मुसम्मन सालिम’ की निशानदेही की है आप भी मुलाह्ज़ा फ़र्माये



था ’क़तील’ इक अहल-ए-दिल अब उस को भी क्यों चुप लगी है

एक हैरत सी है तारी ,शहर भर के दिलबरों पर

‘ -क़तील सिफ़ाइ

जो डुबाना था मुझे तो क्यों मुझे साहिल दिया था

तोड़ना ही था अगर तो क्यों मुझे यह दिल दिया था



-डा0 कुँअर बेचैन (ग़ज़ल का व्याकरण से)

रू-ब-रू हर बात कहना है यक़ीनन ज़ीस्त आदत

अपने बेगाने सभी हम से ख़फ़ा हैं क्या करें हम

-’आहंग और अरूज़ ’से (कमाल अहमद सिद्दक़ी }



अब इसकी तक़्तीअ कर के देख लेते हैं कि बात कहां तक वाज़ेह (साफ़)हुई

2 1 2 2 / 2 1 2 2 / 2 1 2 2 / 2 1 2 2

था ’क़तील’ इक/ अहल-ए-दिल अब /उस को भी क्यों /चुप लगी है

एक हैरत /सी है तारी /,शहर भर के/ दिलबरों पर

‘ -क़तील सिफ़ाइ

{’को’ ’है’ का वज़न 1- पर पढ़ें ]

अब आप देखेंगे कि 2122(फ़ा इला तुन) की तकरार (आवॄति) मिसरा में 4-बार आया है इसलिए बज़ाहिर (स्पष्ट है )यह मुसम्मन शकल है । अब इसी बह्र में एक दूसरा शे’र लेते हैं और इसकी तक़्तीअ करते हैं

2 1 2 2 /2 1 2 2 / 2 1 2 2 / 2 1 2 2

जो डुबाना/ था मुझे तो /क्यों मुझे सा /हिल दिया था

तोड़ना ही/ था अगर तो /क्यों मुझे यह /दिल दिया था



-डा0 कुँअर बेचैन (ग़ज़ल का व्याकरण से)-साभार

इसी बह्र में एक और शे’र लेकर बात और साफ़ करते हैं

2 1 2 2/ 2 1 2 2/ 2 1 2 2/ 2 1 2 2

रू-ब-रू हर/ बात कहना/ है यक़ीनन/ ज़ीस्त आदत

अपने बेगा/ने सभी हम /से ख़फ़ा हैं /क्या करें हम

-’आहंग और अरूज़ ’से (कमाल अहमद सिद्दक़ी }-साभार

अब एक मिसाल बह्र-ए-रमल मुसद्दस सालिम का भी देख लेते है



हिज्र में तन्हाई का आलम अजब था

डूब कर यादों में तेरी सो गये हम

-’आहंग और अरूज़ ’से (कमाल अहमद सिद्दक़ी }-साभार

और अब इस की तक़्तीअ भी कर लेते हैं

2 1 2 2 / 2 1 2 2 / 2 1 2 2

हिज् र् में तन्/ हाइ का आ /लम अजब था

डूब कर या/दों में तेरी /सो गये हम



यानी 2122 (फ़ा इला तुन्) का गिर्दान (मिसरा में 3-बार) और शे’र में 6-बार आया है इस लिए यह रमल मुसद्द्स सालिम कहलायेगी



एक बात ग़ौर फ़र्मायें



ऊपर के शे’र मिसरा उला में और मिसरा सानी में ’में’ दोनो जगह आया है मगर दोनो जगह इसका वज़न मुख़्तलिफ़ ( भिन्न) है

मिसरा-ऊला में इस का वज़न 2- करार पाता है जब की मिसरा सानी में 1-करार पा रहा है\ जानते हैं क्यों ?

क्योंकि’ रुक्न’ यही तलब कर रहा है बह्र की यही मांग है ।वगरना मिसरा सानी बहर से ख़ारिज़ हो जायेगा । यही है शे’र की नज़ाकत और बारीकियाँ



मिसाल के तौर पर अज़ीम शो’अरा (शायरों) के कलाम लगाने का मक़सद यह भी है कि हम आप उनके मयार-ए-सुखन से वाक़िफ़ हों और वक़्तन-फ़-वक़्तन (समय समय पर )हम अपने अपने कलाम भी देखें कि उस Bench mark से हम कहाँ है और हमारी कोशिश अभी कितनी मश्क़ तलब है

आप सभी कारीं (पाठकों) से गुज़ारिश है कि अपनी रहनुमाई से हमें आगाह करें



सादर

-आनन्द.पाठक

09413395592

शनिवार, 5 जनवरी 2013

उर्दू बह्र पर एक बातचीत -बह्र-ए-हज़ज (क़िस्त-3)


उर्दू बह्र पर एक बातचीत -3
बह्र-ए-हज़ज (1 2 2 2 )

[disclaimer clause ; वही क़िस्त -1) का

[पिछली बातचीत में दो बहूर (बह्र का ब0ब0) -बह्र-ए-मुत्क़ारिब(1 2 2) और बह्र-ए-मुतदारिक (2 1 2) का ज़िक्र कर चुका हूं
ये दोनों बहूर ’ख़्म्मास (5-हर्फ़ी) हैं और सालिम बह्र हैं

डा0 कुँअर बेचैन ने इनका हिन्दी नाम भी रखा है
(1) बह्र-ए-मुतक़ारिब =मिलन छन्द
(2) बह्र-ए-मुतदारिक़ =पुनर्मिलन छन्द

अब आगे बढ़ते हैं .....]

उर्दू में एक और मान्य प्रचलित बह्र है जिसका नाम है -बह्र-ए-हज़ज जिसका मूल रुक़्न है "मफ़ा ई लुन्" और जिसका वज़न है 12 2 2. यह भी एक सालिम बह्र है ।सालिम इस लिए कि इस बह्र की बुनियादी रुक़्न (मफ़ा ई लुन) (12 2 2) (बिना किसी काट छाँट के ,बिना किसी कतर ब्योंत के ,बिना किसी तब्दीली के) अपने इसी शकल में रिपीट (गिर्दान) होगी। यह एक (सुबाई)7-हर्फ़ी बह्र है
’हज़ज’ का लग़वी मानी(dictionary meaning) होता है ’सुरीला’ और सचमुच इस बह्र में कही गई ग़ज़ल बहुत ही सुरीली होती है इसी कारण डा0 कुँअर बेचैन ने इस छन्द का हिन्दी नाम "कोकिल छन्द" रखा है
 अज़ीम शो’अरा (मान्य शायरों ) की यह एक बड़ी ही मक़्बूल बहर है इसी बह्र में काफ़ी कलाम कहे गये हैं और अति प्रचलित (राईज़) भी है
यह रुक़्न भी ’वतद’(3-हर्फ़ी कल्मा) और ’सबब"(2 -हर्फ़ी कल्मा) के इश्तिराक (साझा) से बना है
मफ़ाईलुन   = मफ़ा         +ई       + लुन
=(मीम, फ़े अलिफ़)+ (ऐन,ये)+ (लाम,नून)
= वतद         +सबब     +सबब
=  1 2         +2        +2
                        = 1 2 2 2
एक बात ’वतद" और ’सबब’ की बारे में कहना चाहूँगा
उर्दू अरुज़ के लिहाज से वतद के 3-भेद हैं

(1) वतद-ए-मज़्मुआ
(2) वतद-ए-मफ़्रूक़
(3) वतद-ए-मौकूफ़

उसी प्रकार ’सबब" के भी 2-भेद हैं
(1) सबब-ए-ख़फ़ीफ़
(2) सबब-ए-शकील

मगर मैं यहां इसकी तफ़्सीलात (विस्तृत विवेचना) में नहीं जाना चाहता हूँ बस आप तो हिन्दी में ग़ज़ल के लिए इतना ही समझ लें कि ’सबब’ का वज़न 2 है और ’वतद’ का वज़न 12 या 21 होगा

बहर -ए-हज़ज की परिभाषा भी वही है
(1) अगर यह रुक़्न किसी शे’र में 4-बार (यानी मिसरा मे 2 बार ) आये तो बह्र-ए-हज़ज मुरब्ब: सालिम कहलायेगी
     1222       /     1222
     1222        /    1222
(2) अगर किसी शे’र में यह रुक़्न 6-बार (यानी मिसरा में 3 बार) आये तो "बह्र-ए-हज़ज मुसद्दस सालिम" कहलायेगी
     1222    /   1222  /   1222
     1222     /   1222  /  1222
(3)  अगर किसी शे’र में यह रुक्न 8-बार (यानी मिसरा में 4 बार) आये तो "बह्र-ए-हज़ज मुसम्मन सालिम" कहलायेगी
1222   /1222   /1222  /1222
      1222   /1222   /1222  /1222
(4) अगर किसी शे’र में यह रुक़्न 16-बार (यानी मिसरा में 8 बार ) आये तो भी ये "बहर-ए-हज़ज मुज़िआफ़ी मुसम्मन सालिम) कहलायेगी ।कभी कभी इसे 16-रुक़्नी बहर भी कहते हैं
(इज़आफ़ मानी दूना करना)
      1222   /1222  /1222  /1222 /1222/   1222/ 1222/ 1222
      1222   /1222  /1222  /1222 /1222/   1222/ 1222/ 1222

इस बह्र में चन्द अश’आर पेश करता हूँ जिस से बात और साफ़ हो जाये..
इसी बह्र में अल्लामा इक़बाल की एक ग़ज़ल के चन्द अश’आर लगा रहा हूँ ,मुलाहिज़ा फ़र्मायें

ऎ पीराने-कलीसा-ओ-हरम! ऎ वाय मजबूरी
सिला इनकी क़दो-काविश का है सीनों की बेनूरी

कभी हैरत, कभी मस्ती,कभी आहे-सहरगाही
बदलता है हज़ारों रंग मेरा दर्दे-महजूरी

फ़क़ीराने-हरम के साथ ’इक़बाल’ आ गया क्योंकर
मयस्सर मीर-ओ-सुलतां को नहीं शाहीने-काफ़ूरी

अब इसकी तक़्तीअ भी कर के देख लेते हैं
1 2 2 2/ 1 2 2 2  / 12 2  2/ 1 2 2 2
ऎ पीराने/-कलीसा-ओ/-हरम! ऎ वा/य मजबूरी
सिला इनकी/ क़दो-काविश/ का है सीनों /की बेनूरी

कभी हैरत/, कभी मस्ती,/कभी आहे/-सहरगाही
बदलता है/ हज़ारों रन्/ ग मेरा दर्/दे-महजूरी

फ़क़ीराने/-हरम के सा/थ ’इक़बाल’ आ/ गया क्योंकर
मयस्सर मी/र-ओ-सुलतां/ को नहीं शाही/ने-काफ़ूरी

ऎ का की को  ने -देखने में तो सबब(2) के वज़न का  है मगर जब बह्र में इसे गुनगुनाइएगा तो बह्र के मांग के मुताबिक इसे 1 के वज़न में पढ़ना पड़ेगा।  मक़्ता के तीसरे नम्बर रुक्न /थ ’इक़बाल आ/ पर ग़ौर फ़र्माये ।यूँ तो इसका वज़न आप के ख़याल से /1 2 2 1 2/ होना चाहिए मगर नहीं/ ’ल’ के सामने ’आ ’ गया अत: ’ल’ और ’आ’ को एक साथ मिला कर पढ़ेंगे कि वज़न 1222 रहे और बह्र से ख़ारिज़ न हो। उर्दू अरूज़ के मुताबिक यह जायज है


इसी बह्र में अब्दुल हमीद ’अदम’ (अदम गोण्डवी नहीं) के चन्द अश’आर इसी सिल्सिले में लगा रहा हूँ

जो पहली मर्तबा आता है उनसे गुफ़्तगू कर के
बड़ा शादाब मिलता है ,बड़ा सरशार मिलता है

मुलाक़ात इस तरह होती है दो वाकिफ़ निगाहों में
कि जैसे झूमकर मयख्वार से मयख़्वार मिलता है

अब इसकी तक़्तीअ कर के भी देख लेते हैं
1  2  2  2 / 1 2 2 2 / 1 2 2 2   / 1 2 2 2
जो पहली मर्/तबा आता /है उनसे गुफ़्/तगू कर के
बड़ा शादा/ब मिलता है/ ,बड़ा सरशा/र मिलता है

मुलाक़ात इस/ तरह होती/ है दो वाकिफ़ /निगाहों में
कि जैसे झू/म कर मयख्वा/र से मयख़्वा/र मिलता है

जो, है में भी वही बात कि बह्र की मांग पर इसे 1-की वज़न पे पढ़ना पड़ेगा
"मुलाकात इस" को इस तरह पढ़ें कि इसका वज़न 1222 पे आ जाये यानी "त इस" को तिस की वज़न पे पढ़ना पड़ेगा

इसी बह्र में चन्द अश’आर इस हक़ीर (अकिंचन) का भी बर्दास्त कर लें

यहाँ लोगों की आंखों में नमी मालूम होती है
नदी इक दर्द की जैसे रुकी मालूम  होती  है

तुम्हारी फ़ाइलों में क़ैद मेरी रोटियां सपने
मेरी आवाज़ संसद ने ठगी ,मालूम होती है

अब इसकी तक़्तीअ कर के देख लेते हैं
1 2 2  2 /1  2  2  2 /1 2 2 2 / 1 2 2 2
यहाँ लोगों /की आंखों में /नमी मालू/म होती है
नदी इक दर्/द की जैसे /रुकी मालू/म  होती  है

तुम्हारी फ़ा/इलों में क़ै/द मेरी रो/टियां सपने
मेरी आवा/ज़ संसद ने /ठगी ,मालू/म होती है

ये तो रही अदबी बातें
आप ने पुरानी हिन्दी फ़िल्म का यह गाना ्ज़रूर सुना होगा ’सूरज; फ़िल्म का है

बहारों फूल बरसाओ ,मेरा महबूब आया है
हवाओं रागिनी गाओ मेरा महबूब आया है

आप ने इस की लय भी सुनी होगी ,सुर ताल भी सुने होंगे मगर यह न सोचा होगा कि यह गाना ’बह्र-ए-हज़ज मुसम्मन सालिम में है/
अब देखिए कैसे
अब मैं इसकी तक़्तीअ करता हूं
1 2 2 2/1 2  2 2 / 1 2 2  2/ 1 2 22
बहारों फू/ल बरसाओ/ ,मेरा महबू/ब आया है  (रफ़ी साहब ने मेरा में ’मे’ को दबा दिया है और मिरा की वज़न पे
हवाओं रा/गिनी गाओ/ मेरा महबू/ब आया है   (गाया है)
आप स्वयं फ़ैसला करें
अब आप यह पूछेंगे कि अदबी तज़्किरा (चर्चा) में फ़िल्मी गीत का क्या सबब ?
हमारा मक़सद सिर्फ़ यह दिखाना है कि अगर गीत बह्र में हो तो कितना दिल कश हो जाता है कैसे सुर ताल मिल जाते हैं कैसे ज़ेर-ओ-बम (उतार-चढ़ाव ,रिदम) से आहंग (लय) पैदा होता है। अगर आप ग़ौर फ़र्मायेंगे तो बहुत से फ़िल्मी गीत ऐसे मिल जायेंगे जो किसी न किसी बह्र में होंगे। पिछली बार मैने ऐसे ही 2-3 गानों का ज़िक्र किया था जैसे...

इशारों /इशारों/ में दिल ले/ने वाले/बता ये/हुनर तू/ने सीखा/कहां से
122  /122 /  122     / 122 / 12 2/ 1 2 2/ 1 2 2/ 1 2 2        (बह्र-ए-मुत्क़ारिब)

तेरे प्या/र का आ/सरा चा/हता हूँ /वफ़ा कर/ रहा हूँ /वफ़ा चा/हता हूं  (शायद ’धूल का फूल” )
122    /1 2    2    / 1 2   2   /  1 2 2  / 1 2     2   /  1 2 2   /   1  2  2 /  1 2   2            (बह्र-मुत्क़ारिब)

अब तो नई फ़िल्मों के गाने की बात ही छोड़िए...अब वो बात कहां? अब तो मयार (स्तर) ’खटिया’ ’मचिया’ झंडू बाम ’ फ़ेविकोल पर आ गया है।खैर..
मिसाल के तौर पर अज़ीम शो’अरा (शायरों) के कलाम लगाने का मक़सद यह भी है कि हम आप उनके मयार-ए-सुखन से वाक़िफ़ हों और वक़्तन-फ़-वक़्तन हम अपने अपने कलाम भी देखें कि उस Bench mark से हम कहाँ है और हमारी कोशिश अभी  कितनी मश्क़ तलब है
आप सभी कारीं (पाठकों) से गुज़ारिश है कि अपनी रहनुमाई से हमें आगाह करें

सादर
-आनन्द.पाठक
09413395592


उर्दू बह्र पर एक बातचीत (क़िस्त-2)- बह्र-ए-मुतदारिक़


उर्दू बह्र पर एक बातचीत-2
बह्र-ए-मुत्दारिक ( 212)

[disclaimer clause :- -वही-(भाग-1 का)

[ पिछली बार , हमने ’बह्र-ए-मुत्क़ारिब’(122) पर बातचीत की थी .अभी हम सालिम रुक्न पर ही बातचीत जारी रखेंगे .इस बहस को अभी फ़िलवक़्त यहीं छोड़ कर आगे बढ़ते है अगली बहर है ’बह्र-ए-मुत्दारिक’
कुछ दिनों बाद हम फिर लौट कर आयेंगे और बह्र-ए-मुत्क़ारिब पर और बातचीत करेंगे ...

एक बात और
यह लेख अपने हिन्दीदाँ दोस्तों के नज़्रिये से लिखा जा रहा है जिस से मोटा मोटी बहर और वज़न समझने में सुविधा हो .उर्दू अरूज़ की बारिकियां शायद इस में उतनी नज़र न आये।]

 
उर्दू में एक बह्र है "बह्र-ए-मुतदारिक’ जिसका बुनियादी रुक़्न है "फ़ाइलुन" और जिसका वज़न है 212. ’बह्र-ए-मुतक़ारिब’ की तरह यह भी एक ख़म्मस रुक़्न (5-हर्फ़ी) है।  कुँवर बेचैन जी ने इस का हिन्दी नाम ’पुनर्मिलन छन्द" दिया है उन्हीं के शब्दों में .."मुतदारिक’ शब्द अरबी भाषा का है जिसका अर्थ है --खोई हुई वस्तु पाने वाला। इसी अर्थ के आधार पर हमने इसे ’पुनर्मिलन छन्द’ का नाम दिया है  .।
शायद कालान्तर में इस बह्र का यह हिन्दी नामकरण भी प्रचलित हो जाय जैसी ’नीरज’ जी ने ’रुबाई’ के लिए ’मुक्तक’ नाम दिया है। खैर.....

बह्र-ए-मुतदारिक का रुक़्न भी ’सबब’(2-हर्फ़ी) और वतद (3 हर्फ़ी) के योग से बना है वैसे ही जैसे ’बह्र-ए-मुतक़ारिब का रुक़्न बना है

फ़ाइलुन   =फ़ा + इलुन
 = (फ़े,अलिफ़)+ (ऎन,लाम,नून)  
  =सबब+वतद
  = 2 + 12 = 2 1 2

आप ध्यान दें कि बह्र-ए-मुत्क़ारिब का मूल रुक्न " फ़ ऊ लुन’  भी सबब(2) और वतद(12) के योग से बना है

फ़ऊलुन = फ़ऊ + लुन
=  (फ़े,ऎन,वाव) + (लाम,नून)
=  वतद + सबब
=  12  +  2 =1 2 2
वैसे ही आप पायेंगे कि सिर्फ़ ’सबब’ और ’वतद’ का क्रम बदला हुआ है वरना दोनों ही खमम्स (5-हर्फ़ी) रुक़्न है
अब प्रश्न उठता है कि ’फ़ाइलुन’ में ’सबब’ के लिए ’फ़ा’ तज़्वीज़ किया तो फ़ऊलुन’ में सबब के लिए ’लुन’ क्यों लिया ?

इस पर मैं कुछ कह नहीं सकता ,ये तो अरूज़ियों की बातें हैं ।उनके पास ’सबब’ के लिए और भी ऐसे ही कुछ हर्फ़ हैं जिसका वज़न 2 ही है पर लफ़्ज़ (जुज़ ,कलमा) अलग अलग है और अलग अलग रुक़्न में ये लोग अलग अलग प्रयोग करते है। आप की जानकारी के लिए कुछ ऐसे ही ’जुज़’(टुकड़ा) लिख रहा हूं

सबब (वज़न 2)       : फ़ा , तुन् , ई, ..लुन्.. ,मुस्.., तफ़् , मुफ़् , ऊ , वग़ैरह
वतद (वज़न 1,2 या 2,1): मफ़ा , इला ,इलुन्, लतुन् ..फ़ाअ’..तफ़अ’.लात्... वग़ैरह्

एक दिलचस्प बात और

इन रुक़्न (ब0ब0 अर्क़ान ) के और भी नाम से जाना जाता है ।कुछ अरूज़ की किताबों में इसे ’फ़ेल’ फ़अ’ल(ब0ब0 अफ़ाईल तफ़ाइल  उसूल) के नाम से भी जाना जाता है । हर रुक्न में (बाद में आप देखेंगे) कि ऎन.फ़े.लाम में से कोई 2-हर्फ़ ज़रूर आता है इसीलिए ’रुक़्न ’ का दूसरा नाम ’फ़.अ’,ल भी है [( अ’) को आप ’ऎन’ समझे और (अ) को अलिफ़]

इन रुक़्न पर "ज़िहाफ़’( इस पर बाद में बातचीत करेंगे) लगाने से इनकी शक्ल में तब्दीली हो जाती फिर ये रुक़्न ’सालिम’ नहीं रह पाते .कभी कभी तो ’फ़े.अ’.लाम भी नहीं रह पाता तो ऐसे मुज़ाहिफ़ रुक़्न (ज़िहाफ़ लगाने के बाद बदली हुई रुक्न) को किसी मानूस (मान्य व प्रचलित) हम वज़न रुक्न से बदल लेते हैं कि फ़े.अ’.लाम की शर्त बरक़रार रहे

अब मूल विषय पर आते हैं

बह्र-ए-मुतदारिक का मूल रुक़्न ’फ़ाइलुन’ है और वज़न 2 1 2 है

और परिभाषा भी वही कि
(1) अगर यह रुक्न किसी शे’र में 4 बार(यानी मिसरा में 2 बार) आये तो बह्र-ए-मुत्दारिक मुरब्बअ सालिम कहलायेगी
    212  / 212
    212  / 212
(2) अगर यह रुक़्न किसी शे’र में 6 बार रिपीट (यानी मिसरा में 3 बार) आये तो बह्र-ए-मुत्दारिक मुसद्दस सालिम कहलायेगी
    212  /212/  212
    212  /212 /212
(3) अगर यह रुक़्न किसी शे’र में 8 बार रिपीट (यानी मिसरा में 4 बार) आये तो बह्र-ए-मुत्दारिक मुसम्मन सालिम कहलायेगी
     212  /212  /212  / 212
     212  /212  /212 /  212
(4) अगर यह रुक़्न किसी शे’र में 16 बार रिपीट (यानी मिसरा मे 8 बार) आये तो भी यह बह्र-ए-मुत्दारिक  मुइज़ाफ़ी मुसम्मन सालिम   ही कहलायेगी

 अब मैं जनाब ’सरवर आलम राज़ ’सरवर’ के 16 रुक्ऩी ग़ज़ल के चन्द अश’आर इसी बह्र में आप के लिए लगा रहा हूं मुलाहिज़ा फ़र्माये (पूरी ग़ज़ल और अन्य ग़ज़लें आप हिन्दी में यहाँ देख सकते हैं http://sarwarraz.com/ के artcle section में ek pardha Uthaa meGhazal no 2..]

              दिल दुखाए कभी ,जाँ जलाए कभी, हर तरह आज़माए तो मैं क्या करूँ ?
मैं उसे याद करता रहूँ हर घड़ी , वो मुझे भूल  जाए  तो मैं क्या करूँ ?

हाले-दिल गर कहूँ मैं तो किस से कहूँ,और ज़बाँ बन्द रक्खुँ तो क्यों कर जियूँ ?
ये शबे-इम्तिहां और ये सोज़े-दूरूं ,खिरमने-दिल  जलाए  तो मैं क्या करूँ ?

मैने माना कि कोई ख़राबी  नहीं , पर करूँ क्या तबियत  ’गुलाबी’ नहीं
मैं शराबी नहीं ! मैं शराबी नहीं ! वो नज़र  से पिलाए तो मैं क्या करूँ ?

अब मैं इसकी तक़्तीअ करता हूं

212    /212   /212  /212   /212    /212   /212   /212
             दिल दुखा/ए कभी ,/जाँ जला/ए कभी,/ हर तरह/ आज़मा/ए तो मैं/ क्या करूँ ?
मैं उसे /याद कर/ता रहूँ /हर घड़ी /, वो मुझे /भूल  जा/ए  तो मैं /क्या करूँ ?

हाले-दिल/ गर कहूँ /मैं तो किस /से कहूँ,/और ज़बाँ /बन्द रक्खुँ/ तो क्यों /कर जियूँ ?
ये शबे-/इम्तिहां /और ये /सोज़े-दूरूं/ ,खिरमने-/दिल  जला/ए  तो मैं/ क्या करूँ ?

मैने मा/ना कि को/ई ख़रा/बी  नहीं /, पर करूँ /क्या तबि/यत  ’गुला/बी’ नहीं
मैं शरा/बी नहीं /! मैं शरा/बी नहीं /! वो नज़र / से पिला/ए तो मैं/ क्या करूँ ?

अब आप देखेंगे कि ’वो’ ’तो’ देखने में तो सबब (वज़न 2) के लगते है मगर जब आप तरन्नुम में पढ़ेंगे तो इस को वज़न 1 के ज़ोर से पढ़ेंगे तभी इस बहर के आहंग का लुत्फ़ आयेगा ।ये बह्र के आहंग की मांग है
ऊपर ’रक्ख़ुँ’ पर ध्यान दे...सही लफ़्ज़ तो ’रखूँ’ ही था मगर बहर की मांग के कारण इसे ’रक्ख़ुँ’ लिखना पड़ा बग़ैर मानी में किसी तब्दीली के\
यही बात ’तबि’ में भी है इसे ’तबी’ की वज़न पर पढ़ेंगे

अब शकील बदायूनी साहेब की  एक ग़ज़ल के चन्द अश’आर इसी बह्र में लगा रहा हूं मुलाहिज़ा फ़र्मायें

बे-झिझक आ गए ,बेख़बर आ गए
      आज रिन्दों में वाइज़ किधर आ गए

गुफ़्तगू उनसे होती ये किस्मत कहां
  ये भी उनका करम है नज़र आ गए

आना जाना भी ये ख़ूब है आप का
बे-कहे चल दिए बेख़बर आ गए

हम तो रोते ही थे इश्क़ मे रात दिन
तुम भी आख़िर इसी राह पर आ गए

अब इसके तक़्तीअ भी कर के देख लेते हैं
212    /212    /212    /212
बे-झिझक/ आ गए /,बेख़बर /आ गए
      आज रिन्/दों में वा/इज़ किधर/ आ गए

गुफ़् त गू/ उन से हो/ती ये किस्/मत कहां
  ये भी उन/का करम/ है नज़र/ आ गए

आना जा/ना भी ये /ख़ूब है /आप का
बे-कहे/ चल दिए /बेख़बर/ आ गए

हम तो रो/ते ही थे /इश्क़ मे/ रात दिन
तुम भी आ/ख़िर इसी /राह पर /आ गए
 देखने में .. में..से...भी..ना...तो..ही..तो इनका वज़न 2 लगता है मगर तलफ़्फ़ुज़ की अदायगी में बह्र के मांग के मुताबिक इन्हें वज़न 1 पर पढ़ेंगे (और इसे ही मात्रा गिराना कहते हैं)
चूँकि इस बहर में सालिम रुक़्न ’फ़ाइलुन’(212) का हर शे’र में 8-बार (यानी मिसरा में 4 बार) रिपीट हुआ है अत: इस बह्र का नाम हुआ ’बह्र-ए-मुत्दारिक मुसम्मन सालिम"

इसी बह्र मे चन्द अश’आर इस ग़रीब खाकसार के भी बर्दास्त कर लें

आँधियों से न कोई गिला कीजिए
       लौ दिए की  बढ़ाते रहा कीजिए

सर्द रिश्ते भी इक दिन पिघल जायेंगे
       ग़ुफ़्तगू का कोई सिलसिला कीजिए

हम वतन आप हैं हम ज़बां आप हैं
दो दिलों में न यूँ फ़ासिला कीजिए

अब इसके तक़्तीअ कर के भी देख लेते हैं

212    /212    /212    /212
आँधियों /से न को/ई गिला /कीजिए
       लौ दिए/ की  बढ़ा/ते रहा /कीजिए

सर्द रिश्/ते भी इक/ दिन पिघल/ जायेंगे
       ग़ुफ़् तगू/ का कोई /सिलसिला/ कीजिए

हम वतन /आप हैं /हम ज़बां /आप हैं
दो दिलों /में न यूँ /फ़ासिला /कीजिए

यहाँ भी ...भी ..को...पर मात्रा गिराई गई है और इसे 1-की वज़न पर ही पढ़ा जाएगा
इस बह्र का भी वही नाम हुआ...’बह्र-ए-मुतदारिक मुसम्मन सालिम.
ज़िहाफ़ात की बात बाद में करेंगे
आप के सुझाव की प्रतीक्षा रहेगी...बातचीत  जारी रहेगी....
क्रमश:.......

-आनन्द.पाठक
09413395592
       

उर्दू बह्र पर एक बात चीत..बह्र-ए-मुत्क़ारिब (क़िस्त 1)


[दोस्तो ! बहुत दिनों बाद अपने इस ’साईट’ पर लौटा हूं~ वज़ह तो कोई  ख़ास तो नहीं बस मैं  दीगर कामों की मस्रूफ़ियत कह सकता हूं~ और आप मेरी कोताही कह सकते है। अब गिला शिकवा भी क्या ...जब ताख़ीर हो गई तो बहाना क्या...।


ख़ैर..इस बार अपने हिन्दी दां दोस्तों की ख़ातिर मज़्मून का एक सिलसिला शुरु कर रहा हूं ,,,..शायद आप लोग जो ग़ज़ल कहने का शौक़ फ़र्माते हैं इस सिलसिले से कुछ मुस्तफ़ीद (लाभान्वित) हो सकें
बा अदब....]

उर्दू बह्र पर एक बातचीत (क़िस्त 1)
बहर्-ए-मुतक़ारिब्( 122)

[disclaimer clause : इस मज़्मून (लेख) का कोई भी हिस्सा हमारा नहीं है और न ही मैने कोई नई चीज़ खोज की है ।ये सारी चीज़े उर्दू के अरूज़ की किताबों में आसानी से मिलती है ।जो कुछ मैने  हिन्दी ,उर्दू की किताबों से ,चन्द उर्दू के मज़ामीन (मज़्मून का ब0ब0) ,रिसालों से इन्टेर्नेट पे द्स्तयाब (उपलब्ध) सामग्री और उर्दू की इन्टेरनेट की मज़लिस महफ़िल फ़ोरम से  पढ़ा,समझा,सीखा उसी की बिना (आधार) पर लिख रहा हूं। मैं खास तौर से आ0 कुंवर बेचैन की किताब (ग़ज़ल का व्याकरण (हिन्दी में )  जनाब सरवर आलम राज़’सरवर’ साहेब के मज़ामीन ’आसान अरूज़ और शायरी की बुनियादी बातें-उर्दू में ) शम्सुर्रहमान फ़ारुक़ी साहेब कि किताब .से . और कमाल अहमद सिद्द्क़ी साहेब की किताब ’आहंग और अरूज़" (उर्दू में) से मदद ली है }मैं इन अज़ीम शो’अरा और लेखकों का मम्नून (आभारी ) हूं

यह बात मैं इस लिए भी लिख रहा हूं कि बाद में मुझ पर सरक़ेह (चोरी) का इल्जाम न लगे
ख़ुदा मुझे इस कारफ़र्माई की तौफ़ीक़ दे
एक बात और

यदि कोई पाठकगण इन लेखों का या सामग्री का कहीं उपयोग करना चाहें तो नि:संकोच ,बे-झिझक प्रयोग कर सकते हैं अनुमति की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि मैं कोई नई चीज़ तो कह नहीं रहा हूं  और न ही  मैने कुछ इज़ाद किया है ।


मैं कोई अरूज़ी (उर्दू छन्द शात्र का ज्ञाता) भी नहीं हूं और न ही ऐसी कोई मुझ में सलाहिअत (योग्यता एवं दक्षता)  है मगर  .’अमित’ भाई  के हुक्म की तामील में कुछ बातें यहाँ लिख रहा हूं।  ’अमित’ भाई और  इस बज़्म के और मेम्बरान  भी अच्छे शायर है और अरूज़ के जानकार हैं ,उमीद करता हूं कि इस मज़्मून में अगर कहीं कोई नुक़्स नज़र आये तो रह्नुमाई करेंगे और मेरी हिमाकत को नज़र अन्दाज़ करेंगे
   मेरा यह मानना है कि एक अच्छा अरूज़ी एक अच्छा शायर भी हो ,ज़रूरी नहीं और यह भी ज़रूरी नही कि एक अच्छा शायर अच्छा अरूज़ी भी हो। अगर दोनों चीज़ें एक साथ हो तो फिर ....सोने में सुगन्ध कहें या सोने पे  सुहागा.....}

यह आलेख हिन्दी दोस्तों की उर्दू अदब आश्नाई देख कर लिखी जा रही है और बहर के वज़न पर ज़्यादा ध्यान दिया जा रहा है  अत: गुज़ारिश है कि इस को उसी नुक़्त-ए-नज़र( दृष्टि कोण) से देखा जाय कारण यह कि हिन्दी में ....हरकत ...’साक़ित’...साकिन..हर्फ़ का कन्सेप्ट उतना नहीं है जब कि उर्दू में रुक़्न की तामीर में इनका बहुत ख़्याल रखा जाता है

अज़किब्ला (इस से पहले) उर्दू की सालिम बहूर (बह्र का ब0ब0) का ज़िक्र कर चुका हूं उसी में से
 ,एक मानूस-ओ-मक़्बूल (लोकप्रिय) बह्र है " मुतक़ारिब बह्र" जिसका बुनियादी रुक़्न है ’फ़ ऊ लुन्’ और जिसका वज़न है 122.यह 5-हर्फ़ी रुक़्न है ।वैसे  कहा तो यह जाता है कि पहले 7-हर्फ़ी (फ़ाइलातुन..मुस्तफ़िलुन ...वग़ैरह) वज़अ हुई (अस्तित्व) और 5-हर्फ़ी बह्र बाद में वज़अ हुईं
सालिम बह्र सबब (2- हर्फ़ी लफ़्ज़) और वतद (3-हर्फ़ी लफ़्ज़) की तकरार (आवॄति) से बनती है । हिन्दी में ग़ज़ल कहने के लिए इस बह्र के बारे में अभी इतना ही जानना काफी है वरना
उर्दू में सबब के 2-क़िस्म है

 (1) सबब-ए-ख़फ़ीफ़    वज़्न 2
(2)  सबब-ए-शकील     वज़्न 2
और

वतद (वतद का जमा अवताद ) के 3 किस्में है
(1) वतद-ए-मज़्मुआ      वज़्न 12
(2) वतद-ए-मफ़्रूक़        वज़्न 21
(3) वतद-ए-मौक़ूफ़

इन सब बुनियादी इस्तिहालात (परिभाषाओं) का ज़िक्र मुनासिब मुकाम पर समय समय पर करते रहेंगे.उर्दू स्क्रिप्ट् में यहां दिखाना तो मुश्किल है अभी तो बस इतना  ही समझ लीजै कि ’सबब’ का वज़्न 2 और वतद का वज़्न (12) या (21)

फ़ ऊ लुन् = वतद + सबब
=  (फ़े ऎन वाव )+ (लाम नून)
= ( 1 2) +(2)     [नोट करें ;-फ़े का वज़्न 1 और ऎन और वाव एक साथ लिखा और बोला जायेगा तो वज़्न 2)
            = 122   यह बह्र मुतक़ारिब की मूल रुक़्न है
यह रुक़्न अगर किसी
मिसरा  में 2 बार और शे’र में 4 बार आता है तो उसे बह्र-ए-मुतक़ारिब ’मुरब्बा’ सालिम कहेंगे (मुरब्बा=4)
-----     3  बार -------    6 बार आता है तो उसे बह्र-ए-मुतक़ारिब ’मुसद्दस’  सालिम कहेंगे(मुसद्दस=6)
---------  4 बार .................8 बार आता है तो उसे बहर-ए-मुतक़ारिब ’मुस्समन’ सालिम कहेंगे(मुसम्मन=8)

--------   8 बार ...............16 बार आता है तो इसे भी , मुस्समन’ ही कहते है बस  उसमें ’मुइज़ाफ़ी’ लफ़्ज़.मुसम्मन से पहले.जोड़ देते है जिससे यह पता चले कि यह ’मुस्समन’ की दो-गुनी की हुई बहर है
खैर
यह बह्र इतनी मधुर और आहंगखेज़ (लालित्य पूर्ण ) है कि  इस बह्र में बहुत से शो;अरा नें बहुत अच्छी और दिलकश ग़ज़ल कहे  हैं
खुमार बाराबंकी साहब की इसी बह्र में एक गज़ल है  आप भी मुलाहिज़ा फ़र्मायें
मत्ला पेश है

न हारा है इश्क़ और,न दुनिया थकी है
दिया जल रहा है ,हवा चल रही है

्तक़्तीअ  पर बाद में जाइएगा पहले इस शे’र की शे;रियत देखिए .क्या बात कही है ..इश्क़ और दुनिया ...दिया और हवा सब अपना अपना काम कर रहें है बग़ैर अन्जाम की परवाह किए बग़ैर

खैर इसकी तक़्तीअ पर आते है

122    /  122 /122    /122
न हारा/ है इश्क़ और/न दुनिया/थकी है
122    /122/   122  /122
दिया जल/रहा है/हवा चल/ रही है

इसलिए कि अगर मिसरा को बह्र और वज़्न में पढना है तो ’है’ को दबा कर (मात्रा गिरा कर कि 1 का वज़्न आये) प्र्र पढ़ना  पढ़ेगा
[-"इश्क़ और '- को 22 के  वज़न पर  पढ़ना पड़ेगा यानी ’इश्क़’ को  ’इश’ और "और" को "अर’  की वज़न पर पढ़ना पड़ेगा

एक बात और
इस शे’र में 122 की आवॄति 8-बार हुई है(यानी एक मिसरा में 4 बार आया है) अत: यह मुस्समन(8) हुआ
चूंकि 122 अपनी मूल स्वरूप (बिना किसी बदलाव के बिना किसी काट-छाँट के पूरा का पूरा ,गोया मुसल्लम)में हर बार रिपीट् हुआ अत्: यह "सालिम’ बहर हुआ
अत: इस बहर का नाम -हुआ "बहर-ए-मुतक़ारिब मुसम्मन सालिम’
चन्द अश’आर आलिम जनाब  इक़बाल साहब का लगा रहा हूं बहुत ही मानूस(प्रिय) ग़ज़ल है
सितारों से आगे जहां और भी हैं
अभी इश्क़ के इम्तिहां और भी हैं

कनाअत न कर आलमे-रंगो-बू पर
चमन और भी  आशियां और भी हैं

तू तायर है परवाज़ है काम तेरा
तिरे सामने आसमां और भी है

इन अश’आर की शे’रिअत देखिए और महसूस कीजिए ..यहां काफ़िया की तुकबन्दी नहीं रदीफ़ का मिलान नहीं शे’र का वज़्न (गुरुत्व) और असरपज़ीरी देखिए और फिर देखिए की हम लोगों की गज़ल या शे’र कहां ठहरते हैं (यानी कहीं नहीं)
अब इसके तक़्तीअ पर एक नज़र डालते हैं
122    /122    /122    /122
सितारों /से आगे /जहाँ औ /र भी हैं
अभी इश्क़/ के इम्ति/हाँ औ/ र भी हैं     (इश्क़ को ’इश् क’ की वज़न पर पढ़ें और ’इम्तिहां’ को ’इम’ ’ति’ की वज़्न पर पढ़ें क्योंकि बहर की यहां पर यही माँग है)

क़नाअत /न कर आ/लमे-रंगो/-बू पर
चमन औ/र भी आ/शियां  औ/र भी हैं

तू तायर/ है परवा/ज़ है का/म तेरा
तिरे सा/मने आ/समां औ/र भी हैं

यहां भी ’से’ और ’है’ देखने में तो वज़न 2 का लगता है लेकिन इसे 1 की वज़्न पे पढ़्ना होगा(यानी मात्रा गिरा कर पढ़ना होगा) कारण कि बहर की यही मांग है यहां पे।यह भी बह्र-ए-मुत्क़ारिब मुसम्मन सालिम की मिसाल है कारण वही कि इस बह्र में भी सालिम रुक्न( फ़ ऊ लुन 122) शे’र में 8-बार (यानी मिसरा में 4-बार) प्रयोग हुआ है

इसी सिलसिले में और इसी बहर में चन्द अश’आर इस ख़ादिम खाकसार का भी बर्दास्त कर लें
122    /122    /122 /122
खयालों /में जब से/ वो आने/ लगे हैं
122     /122       122  / 122
हमीं ख़ुद /से ख़ुद को /बेगाने/ लगे हैं

122    /122        /122  /122
वो रिश्तों/ को क्या ख़ा/स तर्ज़ी/ह देते
122      /122    /122  /122
जो रिश्तों /को सीढ़ी /बनाने /लगे हैं

122     /122     /122    /122
अभी हम/ने कुछ तो /कहा भी /नहीं है
122   /  122       /122/ 122
इलाही /! वो क्यों मुस्क/राने लगे हैं   (मुस्कराने =मुस कराने की तर्ज़ पे पढ़े)
ये भी मुतकारिब मुसम्म्न सालिम बह्र है


कई पाठकों ने लय (आहंग) पर भी समाधान चाहा है.कुछ लोगों की मानना है कि अगर लय (आहंग) ठीक है तो अमूमन ग़ज़ल बहर में होगी। मैं इस से बहुत इत्तिफ़ाक़ (सहमति) नहीं रखता ,मगर हां,अगर ग़ज़ल बह्र में है तो लय में ज़रूर होगी ।कारण कि रुक्न और बह्र ऐसे ही बनाये गयें हैं कि लय अपने आप आ जाती है ’फ़िल्मी गानों में जो ग़ज़ल प्रयोग किए गये हैं उसमें लय भी है ..सुर भी है..ताल भी है ..तभी तो दिलकश भी है
उदाहरण के लिए फ़िल्म का एक गीत लेता हूँ आप सब ने भी सुना होगा इसकी लय भी सुनी होगी इसका संगीत भी सुना होगा(अभी फ़िल्म का नाम याद नहीं आ रहा है)...गाना है

इशारों इशारों में दिल लेने वाले ,बता ये हुनर तूने सीखा कहां से
निगाहों निगाहों से जादू चलाना ,मेरी जान सीखा है तूने जहाँ से

अब मैं इस की तक़्तीअ कर रहा हूं
122   /122  /  122   /  122  / 122  / 122  /122    /122
इशारों /इशारों/ में दिल ले /ने वाले /,बता ये/ हुनर तू/ने सीखा /कहां से
122   /122    /122   /122  / 122  /  122 /  122  /122
निगाहों /निगाहों /से जादू /चलाना ,/मेरी जा/न सीखा/ है तूने /जहाँ से

जब आप ये गाना सुनते हैं तो आप को लय कहीं भी टूटी नज़र नही आती...क्यो?
क्यों कि यह मतला सालिम बहर में है और सही वज़न में हैं
यहां ’में’ ’नें’ ’से’ मे’ ’है’  देखने में तो वज़न 2 लगता है लेकिन बहर का तक़ाज़ा है कि इसे 1-की वज़न में पढ़ा जाय वरना सुर -बेसुरा हो जायेगा..वज़न से ख़ारिज़ हो जायेगा (इसी को उर्दू में मात्रा गिराना कहते हैं) मेरी को ’मिरी’ पढ़ेंगे इस शे’र में
ऐसा भी नहीं है कि जहाँ आप ने ’में’ ’नें’ ’से’ मे देखी मात्रा गिरा दी ,वो तो जैसे ग़ज़ल की बह्र मांगेंगी वैसे ही पढ़ी जायेगी
 ऊपर के गाने में रुक़्न शे’र में 16-बार यानी मिसरा में 8-बार प्रयोग हुआ है अत: यह 16-रुकनी शे’र है मगर है मुस्समन ही
अत: इस पूरी बहर का नाम हुआ,.....बहर-ए-मुक़ारिब मुइज़ाफ़ी मुसम्मन सालिम
आप भी इसी बहर में शे’र कहें ..शायद कुछ बात बने..(शे’र


अभी हम ’बह्र-ए-मुतक़ारिब’ सालिम पर ही चर्चा करेंगे जब तक कि ये बह्र आप के ज़ेहन नशीन न हो जाय। इस बह्र के मुज़ाहिफ़ (रुक्न पे ज़िहाफ़ ) शक्ल की चर्चा बाद में करेंगे
 यह ज़रूरी नहीं कि आप ’मुसम्मन’सालिम (शे’र मे 8 रुक्न) में ही  ग़ज़ल कहें
आप चाहें तो मुसद्द्स सालिम (शे’र में 6 रुक्न) में भी अपनी बात कह सकते है
मैं मानता हूँ कि मुरब्ब सालिम (शे’र में 4 रुक़्न) में अपनी बात कहना मुश्किल काम है मगर असम्भव नहीं है अभी तक इस शक्ल के शे’र मेरी नज़र से गुज़रे नहीं है.अगर कभी नज़र आया तो इस मंच पर साझा करुंगा
मगर बह्र-ए-मुतक़ारिब की मुसम्मन शक्ल इतनी मानूस (प्रिय) है कि अज़ीम शो’अरा (शायरों) ने इसी शक्ल में बहुत सी ग़ज़ल कही है। मैं इसी बहर की यहां 1-ग़ज़ल लगा रहा हूँ। यहां लगाने का मक़सद सिर्फ़ इतना है कि लगे हाथ हम-आप शे’र की मयार (स्तर) और उसके शे’रियत के bench mark से भी वाकिफ़ होते चलें और यह देखें कि हमें इस स्निफ़ (विधा) में और मयार में कहाँ तह जाना है ।तक़्तीअ आप स्वयं कर लीजिएगा .एक exercise भी हो जायेगी

मक़्बूल शायर जनाब इक़बाल साहब का एक  ग़ज़ल लगा रहा हूं ।आप ग़ज़ल पढ़े नहीं सिर्फ़ गुन गुनायें और दिल में महसूस करें

इसकी बुनावाट देखिए ,मिसरों का राब्ता(आपस में संबन्ध) देखिए अश’आर की असर पज़ीरी(प्रभाव) देखिए और इसका लय (आहंग) देखिए और फिर लुत्फ़ अन्दोज़ होइए

122/122//122/122
तिरे इश्क़ का इंतिहा चाहता हूँ
मिरी सादगी देख मैं क्या चाहता हूँ

सितम हो कि हो वादा-ए-बेहिजाबी
कोई बात सब्र आज़मा चाहता हूँ

ये जन्नत मुबारक रहे ज़ाहिदों को
कि मैं आप का सामना चाहता हूँ

ज़रा-सा तो दिल हूँ मगर शोख़ इतना
वही लनतरानी सुना चाहता हूँ

कोई दम का मेहमां हूं ऎ अहले-महफ़िल
चिराग़े-सहर हूँ  बुझा चाहता हूँ

भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी
बड़ा बेअदब हूँ  सज़ा चाहता हूँ

नोट : इश्क़ को  ’इश् क (2/1) की वज़न में पढ़े
     ’इन्तिहा’ को इन् तिहा (2/12) की वज़्न् पे पढ़ें

वादा-ए-बेहिजाबी  =पर्दा हटाने का वादा
लनतरानी       =शेखी बघारना
चिराग़-ए-सहर    =भोर का दीपक

शायद ये प्रस्तुति शायद आप के काम आये ,इस उमीद से
सादर
आनन्द.पाठक
09413395592






/