गुरुवार, 4 फ़रवरी 2010

दो मुख्तलिफ गज़लें

ग़ज़ल ०९


जब नाम तिरा सूझे ,जब ध्यान तिरा आवे
इक ग़म तिरे मजनू की ज़ंजीर हिला जावे !

सब की तो सुनूँ लोहू ये आँख न टपकावे
कीधर से कोई ऐसा दिल और जिगर लावे !

जी को न लगाना तुम ,इक आन किसू से भी
सब हुस्न के धोखे हैं ,सब इश्क़ के बहलावे !

ख़ुद अपना नाविश्ता है ,क्या दोष किसू को दें
यह दिल प-ए-शुनवाई जावे तो कहाँ जावे ?

टुक देख मिरी जानिब बेहाल हूँ गुर्बत में
दीवार ! सो लरज़ाँ है साया ! सो है कतरावे !

दुनिया-ए-दनी में कब होता है कोई अपना
बहलावे से बहलावे , दिखलावे से दिखलावे !

देखो तो ज़रा उसके अन्दाज़-ए-ख़ुदावन्दी
ख़ुद बात बिगाड़े है ,ख़ुद ही मुझे झुठलावे !

सद हैफ़ तुझे ’सरवर’ अब इश्क़ की सूझी है
हर बन्दा-ए-ईमां जब काबे की तरफ जावे

-सरवर-
नविश्त: = भाग्य में लिखा
सद हैफ़ = हाय भोले-भाले !
पा-ए-शुनवाई= अपनी बात सुनाने कि लिये

========================================================================
ग़ज़ल ०३

दर्द-ए-बेकसी कब तक रंज-ए-आशिक़ी कब तक
रास मुझ को आयेगी ऐसी ज़िन्दगी कब तक !

सोज़-ए-दिल छिपाएगा अश्क की कमी कब तक
खुश्क लब दिखाएंगे आरज़ी खुशी कब तक !

तिश्नगी मुक़द्दर में साथ तो नहीं आयी
चश्म-ए-मस्त बतला तू ऐसी बेरुखी कब तक !

ज़ब्त छूटा जाता है सब्र क्यों नहीं आता
देखिये दिखाती है रंग बेकसी कब तक !

दिल में हैं मकीं लेकिन सामने नहीं आते
रखेगा भला आखिर सब्र आदमी कब तक !

दर पे आँख अटकी है उखड़ी उखड़ी सांसे हैं
नातवां सहे आखिर तेरी ये कमी कब तक !

मेहरबान वो हों तो लुत्फ़-ए-इश्क सादिक है
बंदगी में कटेगा ’स्वामी’ ज़िन्दगी कब तक !!
-स्वामी-

कोई टिप्पणी नहीं: